Non veg jokes in hindi 2021 | Best Jokes in hindi

Non veg jokes in hindi 2021 | Best Jokes in hindi


Non veg jokes in hindi: अगर आप भी non veg jokes पड़ना पसंद करते है तो ये पोस्ट आपके लिए है।  यहाँ आपको 40 से ज्यादा non veg jokes मिलेंगे जो की आपको काफी पसंद आएंगे। निचे आपको 40+ नॉन वेज जोक्स हिंदी में मिल जायेगे जिनको आप अपने दोस्तों के साथ Enjoy कर सकते है। ये जोक्स बच्चो के लिए नहीं है।  जैसा की आपको पता ही होगा Non veg jokes में आपको गालियाँ भी देखने को मिलती है जो की बच्चो के लिए सही नहीं है। अगर फिर भी आप इनको पढ़ना चाहते है तो निचे आपको बेस्ट Non veg jokes मिल जायेंगे जो की आपको काफी पसंद आएंगे। 


Non veg jokes किसे कहते है ?

जिन jokes में आपको गालियाँ सुनने या देखने को मिले उनको Non veg jokes कहते है।  Non veg jokes आपके हास्य को काफी जायदा बड़ा  देते है। इन जोक्स का इस्तेमाल आप अपने friends के साथ ही करें, जिस भी दोस्त के साथ आप इन जोक्स को share करे उससे पहले याद रखे की ये Non veg jokes है और इसमें गालिया भी है जिससे आपके दोस्त और रिस्तेदारो से दूरिया  सकती है। 

4 0+ latest Non-veg jokes in Hindi for 2021 | Jokes in Hindi

लडकी अपने बॉयफ्रेंड से: चलो आज एक दूसरे से गाली दे कर बात करते हैं।

लडका: नही तुम नाराज हो जाओगी।

लडकी: चल कुत्ते

लडका: चल कुत्ती

लडकी: चल कमीने

लडका: चल कमीनी

लडकी: चल पागल

लडका: चल पगली

लडकी: चल चुतिये, हरामजादे

लडका: चल रंडी, मादरचोद, तेरी माँ का भोसडा, बहन की लौड़ी, टके टके पे चुदवाने वाली, तेरी तरह तेरी बहन को भी चोदूगां, साली आजा तेरी गांड मारता हूँ बहनचोद, मादर चोद की बच्ची, लौड़ा फ़ेंक के मारूंगा यहाँ से तो गायब हो जाएगी रंडी साली।


लडकी (रोते हुए): आज से हमारा रिशता खत्म।


लडका: अरे जानू सुनो तो… मैंने कहा था तुम नाराज़ हो जाओगी।


मोनू के पापा मम्मी आपस मे बात कर रहे थे।


पापा: शर्मा जी का फोन आया है उन्हे अपना मोनू बहुत पसंद है, वो आज शाम अपनी बेटी को लेकर बात पक्की करने आ रहे हैं।


मम्मी: ये तो बहुत अच्छी खबर है।

(यह बात मोनू ने भी सुन ली वो खुशी से उछलता हुआ अपने कमरे मे चला गया।)


मम्मी: मेहमान आ रहे हैं और गैस का सिलेंडर भी खत्म होने वाला है।


पापा: मैं ऑफिस से फोन लगा दूँगा, लडका आकर सिलेंडर दे जायेगा।


मम्मी: पर मुझे तो बाजार जाना है।


पापा: मोनू तो रहेंगा न घर पर उससे कह देता हूँ।


(पापा ने मोनू को आवाज लगाई।)


मोनू: जी पापा।


पापा: बेटा आज वो आयेगा…


तभी बीच में ही बात काटकर खुश होते हुए मोनू बोला, “मुझे पता है, मैंने आपकी बाते सुन ली थी।


(मोनू के दिमाग में शर्मा जी और उनकी बेटी थी।)

पापा: हाँ तो बेटा वो आए ना तो यह जरूर देख लेना कि सील पैक तो है, अगर सील टूटी हुई हो तो इनकार कह देना।

(मोनू के पसीने छूट गए, इससे पहले वो कुछ कहता मम्मी बोल पडी।)


मम्मी: अरे आपको नहीं पता है, आज-कल सभी सील टूट कर ही आती हैं। गुप्ता जी के यहाँ भी सील टूटी आई, माथुर जी के यहां भी सील टूटी, वहां के लोग आज-कल सील तोडकर जांच करते हैं ताकि जिसके घर जाये उसको कोई परेशानी न हो।


पापा: ऐसे कैसे, सील तोडनी जरूरी है तो हमारे सामने हमारे घर मे आकर तोडो ना।

(इससे पहले कि मोनू बेहोश होता पापा बोले।)


पापा: और हाँ मोनू आज वो शर्मा जी और उनकी बेटी बात पक्की करने आ रहे हैं।


मोनू पसीना पोछकर: अभी आप इतनी देर से सील टूटने कि किसकी बात कर रहे थे?


पापा: गैस सिलेंडर की, हरामखोर तू किसकी समझ रहा था?


मोनू: शर्मा जी की बेटी की।



एक NRI हिंदुस्तान घूमने आया। आते ही उसकी पुराने यादें ताज़ा हो गई। उसने एक ढाबे पे कटींग चाय मंगवाई। तो वहां एक छोटे लड़के ने उसको गिलास में एक उंगली अंदर डालके चाय दी।


NRI (चाय पीते पीते): तुम लोग कब सुधरोगे? चाय इस तरह नही पकडते।


लड़का: साहब, उंगली में दर्द है, डॉक्टर ने सेंकने के लिये कहा है।


NRI: तो मादरचोद, गांड में क्यो नही रखी उंगली, वहाँ सबसे ज्यादा सेंक मिलेगा।


का: साहब, वहीं थी, आपने चाय मंगवाई तो निकालनी पडी।


एक दिन एक आदमी के घर के बाहर एक भिखारी ने भिक्षा के लिए आवाज लगाई।


अंदर से आदमी सिर्फ तौलिया लपेटे बहार आया और हाथ जोडकर बोला, बाबा 5 साल से आप मेरे घर भिक्षा मांगने आ रहे हैं और मैंने बिना कुछ दिए आपको कभी नही लौटाया, पर आज मेरे पास कुछ नही है। रात को डाकू आये और मेरी जीवन भर की सारी कमाई ले गये। यहाँ तक की बदन पे कपडे भी नही छोडे। अब मैं नंगा आपको क्या दूँ और खुद क्या खाऊं?


यह कहते हुए आदमी रोने लगा। यह देख भिखारी कि आँख मे भी आँसू आ गये।


भिखारी ने आदमी के सिर पर हाथ रखा और बोला, रो मत बेटा, सब ऊपर वाले की मर्जी है। पगले अब दुख मत कर, नंगा है तो क्या हुआ? चल अंदर आज गांड ही दे दे।


मांगता हूँ तो देती नहीं हो,

जवाब मेरी बात का;


और देती हो तो खड़ा हो जाता है,

रोम-रोम जज्बात का,


मुंह में लेना तुम्हे पसंद नहीं,

एक भी कतरा शराब का,


फिर क्यों बोलती हो कि धीरे से डालो,

बालों में फूल गुलाब का,


वो सोती रही मैं करता रहा,

इंतज़ार उसके जवाब का,


अभी उसके हाथ में रखा ही था कि उसने पकड़ लिया,

गुलदस्ता गुलाब का,


उसने कहा पीछे से नहीं आगे से करो,

दीदार मेरे हुस्न-ओ-शबाब का,


उसने कहा बड़ा मज़ा आता है जब अन्दर जाता है,

कानो में एक एक लफ्ज़ तेरे प्यार का!



पत्नी: सुनो जी अब जब हम शादी के बंधन में बंध गए है तो हमें हमारी सेक्स लाइफ मैनज कर लेनी चाहिए।


पति: हाँ, बोलो मेरी जान।


पत्नी: तुम जब ऑफिस से आओ और मेरे बाल बने हुए देखो तो इसका मतलब है मैं सेक्स के मूड में हूँ।


अगर मेरे बाल हल्के बिखरे हुए और हल्के बने हुए हैं तो मैं सेक्स कर भी सकती हूँ और नहीं भी।


और अगर मेरे बाल बिगड़े हुए है तो मैं पूरा सेक्स के मूड में हूँ।


ठरकी पति का दिमाग खराब हुआ तो वह बोला ठीक है जानू लेकिन मेरी भी कुछ शर्ते हैं।


पति आगे बोला, अगर मैं ऑफिस से एक पैग पीके आया तो मैं सेक्स के मूड में नहीं हूँ।


अगर मैं 2 पैग पीके आया तो सेक्स कर भी सकता हूँ और नहीं भी।


लेकिन अगर 3 पैग पीके आया तो माँ चुदाने गया तेरे बालों का स्टाइल, चुदाई तो होकर ही रहेगी।


शहर में एक बाबा जी प्रवचन के लिए आये। कुछ महिलाएं भी प्रवचन सुनने आई। साथ-साथ में प्रवचन सुन रही थी और साथ में आपस में बातें।


बाबा: हम जो भी अच्छे बुरे कर्म इस जन्म में करते हैं उसका फल हमें अगले जन्म में अवश्य मिलता है और आदमी अगले जन्म में उसी के अनुसार योनी को प्राप्त करता है।


एक महिला: बाबा जी यह बतायें कि क्या अच्छे कर्म करने से मनुष्य पुन:उसी योनी को प्राप्त करता है?


बाबा: अवश्य, वही योनी को प्राप्त करता है।


महिला (दूसरी महिला से): चल बहन हम तो अपने घर ही चलें, जब हम को अगले जन्म में भी गांड़ ही मरवानी है तो प्रवचन सुनने से क्या घंटा फायदा होगा।


संता के सिर पर चोट लग गयी तो वो डॉक्टर के पास पट्टी बंधवाने गया। डॉक्टर ने सिर पर पट्टी बांध दी और पूछा कि चोट कैसे लगी?


संता: छोड़ो डॉक्टर साहब लंबी कहानी है।


डॉक्टर: मैं फिर भी सुनना चाहता हूँ।


संता: बात यह है कि पिछले हफ्ते पत्नी मायके गई हुई थी। मैं भी हवा बदलने रविवार को होटल में जा टिका। मेरे बगल के कमरे में एक खूबसूरत औरत थी। रात ग्यारह बजे उसने दरवाजा खटखटाया और माफी मांगते हुए कहा कि उसे ठंड लग रही है अगर मैं कुछ मदद कर सकूं तो वह आभारी रहेगी। मैंने एक कम्बल दे दिया। थोड़ी देर बाद वह फिर आ गई और वही शिकायत करने लगी। मैंने उसे अपना ओवरकोट दे दिया।


आज जब मैं हथौड़ी से कील ठोंक रहा था तो अचानक मुझे समझ में आया कि उस दिन वह क्या चाह रही थी और बस, मैंने हथौड़ी अपने सिर पर दे मारी।


एक दिन क्लास में टीचर ने कहा, बच्चो मैं एक अक्षर बोलूंगी तो तुम्हें मुझे एक शब्द बताना होगा।


सबसे पहले टीचर ने अक्षर बोला, ग ।


पप्पू और बाकी बच्चों ने हाथ उठाया पर टीचर ने पप्पू की ओर यह सोच कर ध्यान नही दिया कि कुछ उल्टा ही बोलेगा तो उसने किसी दुसरे बच्चे को खड़ा कर के पूछा।


बच्चा: गमला।


टीचर: बहुत खूब।


फिर टीचर ने अक्षर बोला, ल।


फिर पप्पू और बच्चों ने हाथ उठाया पर टीचर ने फिर पप्पू की ओर यह सोच कर ध्यान नही दिया कि कुछ उल्टा ही बोलेगा तो उसने किसी दुसरे बच्चे को खड़ा कर के पूछा।


बच्चा: लड्डू।


टीचर:

बहुत खूब।


टीचर ने अब दोबारा अक्षर बोला स ।


फिर पप्पू और बच्चों ने हाथ उठाया। टीचर को स से कोई उल्टा शब्द नहीं सूझा तो उसने पप्पू को खड़ा कर लिया।


पप्पू: साले चूतिये!


मगनलाल ने एक कॉल सेंटर में काम करने वाली लड़की रूबी से शादी कर ली। सुहागरात को मगनलाल अपना लौड़ा टाइट कर के आया। उसे उम्मीद थी कि रूबी अपनी चूत सहलाती हुई बैठी होगी। लेकिन रूबी बिल्कुल मरे हुए कुत्ते की तरह बिस्तर पर पसरी हुई थी।


मगनलाल: मादरचोद, ये क्या हाल बना रखा है? देखती नहीं मैं हूँ मैं।


रूबी: नमस्कार, बिस्तर पर आपका स्वागत है। अंग्रेज़ी स्टाइल में चुदाई करने के लिए बाईं चूची दबाएँ। हिन्दी स्टाइल में चुदाई करने के लिए दाईं चूची दबाएँ।


मगनलाल: ये क्या मज़ाक है साली रंडी की औलाद?


रूबी: चूत संबंधी जानकारी, जैसे टाइट चूत या फटी चूत के बारे में जानने के लिए अंगुली डालें। लौड़ा ठीक से काम नहीं कर रहा है जैसी किसी जानकारी के लिए अपना लंड मुँह में डालें। गाँड़ मारने के लिए गाँड़ में अंगुली डालें और अपनी झांटें खींचकर तीन बार अंगुली अंदर घुसाएँ।


मगनलाल: बहन की लौड़ी, तेरी माँ की चूत, तुझे चोदने के लिए आया हूँ।


रूबी: मुझे चोदने के लिए ग्राहक सेवा एक्ज़ीक्यूटिव से बात करें।


मगनलाल (लगभग रोते हुए): भाड़ में गई ऐसी चूत। मादरचोद किस मनहूस से शादी कर ली।


रूबी: कृपया लाइन पर बने रहें। आपका लंड कतार में है। हमारे आंतरिक प्रशिक्षण व प्रयोजन के लिए आपकी इस हरकत को रिकॉर्ड किया जा सकता है।


भोसड़ी वालों एक तो ग्रुप बनाया, तुम सब को जोड़ा, अपने बच्चों की तरह समझा, कभी किसी मे भेदभाव नहीं किया, ग्रुप एडमिन होने के सारे फ़र्ज़ निभाता हूँ, रोज़ नये नये जोक्स भेजता हूँ, ज्ञान की बाते भेजता हूँ, ब्लू फिल्म भेजता हूँ, नंगी तस्वीरे भेजता हूँ, तुम्हें मुट्ठ मारना सिखाया, चोदना सिखाया, मुर्गे कुकड़ू कु बोले उस से पहले तुम्हें गुड मोनिॅग बोलता हूँ, तुम अपना मोबाइल रिचार्ज करो या नहीं मैं हर हर महीने 600 का 3G पैक रिचार्ज करवाता हूँ, सिर्फ तुम्हारे लिए।


लेकिन तुम लोग मेरी ही गांड मारने पर तुले हो।


हमारा एडमिन ये, हमारा एडमिन वो, हमारा एडमिन ऐसा, हमारा एडमिन वैसा, हमारा एडमिन चुतिया, हमारा एडमिन गांडू, हमारा एडमिन लोड़ू, हमारा एडमिन लोडे जैेसा, हमारा एडमिन फलाना लिखते रहते हो। अरे ग्रुप ही तो बनाया है कोई पाप थोङे किया है।


गाँड मार लो।

लो अब इस बात पर भी हँसोगे तुम कमीनों।


दो बूढ़े शराब के नशे में टुन्न होकर एक कोठे पर सेक्स करने गए।


कोई भी लड़की बूढ़ों से सेक्स के लिए नहीं मानी तो दलाल ने दो रबर की गुड़िया में हवा भर के बूढ़ों को दे दी और बोला, “लड़कियां नशे में हैं। अपना-अपना काम कर लो।”


जब सुबह दोनों कोठे से बाहर निकले तो आपस में बातें कर रहे थे।


पहला बूढा: यार लड़की नशे में नहीं थी, साली लाश थी। सारी रात खुद ही हिल-हिल कर करना पड़ा।


दूसरा बूढा रोते हुए बोला, मुझे तो सालों ने भूतनी दे दी। मैंने जोश-जोश में उसकी चूची काट ली तो सूं की आवाज़ के साथ तेज़ हवा आई और लड़की उड़ के खिड़की के बाहर चली गयी। सारी रात मेरी डर के मारे गांड फटी रही।


चश्मे और ब्रा का तुलनात्मक अध्ययन:

1. दोनों की बनावट एक सी होती है।


2. शुरू में दोनों को पहनने में दिक्कत होती है।


3. एक को नज़र आने के लिए और दूसरे को नज़र में लाने के लिए पहना जाता है।


4. उम्र और प्रयोग के साथ दोनों का नंबर बढ़ जाता है।


5. चश्मा उतारने की बाद आँखे मिचमिचा जाती हैं और ब्रा उतरते ही आँखे चौंधिया जाती हैं।


6. चश्मा पहनने के बाद और ब्रा उतरने के बाद उसके इस्तेमाल की चीज़ मूल रूप से बड़ी हो जाती है।


एक लड़की की शादी हुई और उसकी सहेली को उसकी सुहागरात के बारे में जानने की बड़ी ही उत्सुकता थी।


सहेली: बता ना कल रात को क्या हुआ?


लड़की: कुछ नहीं।


सहेली: पर कल तो तेरी सुहागरात थी, कुछ तो हुआ होगा?


लड़की: कह रही हूँ ना कुछ नहीं हुआ।


सहेली: अच्छा तो मुझे कल रात की सारी घटना बता।


लड़की: रात को दस बजे मेरे पति कमरे में आये।


सहेली: फिर क्या हुआ?


लड़की: उन्होंने अपना कोट उतारा और खूँटी पर टांग दिया।


सहेली: फिर क्या हुआ?


लड़की: फिर उन्होंने अपनी टाई उतारी और खूँटी पर टांग दी।


सहेली: फिर क्या हुआ?


लड़की: फिर उन्होंने अपनी शर्ट उतारी और खूँटी पर टांग दी।


सहेली: फिर क्या हुआ?


लड़की: फिर उन्होंने अपनी बनियान उतारी और और खूँटी पर टांग दी।


सहेली: फिर क्या हुआ?



लड़की: फिर उन्होंने अपनी बेल्ट उतारी और खूँटी पर टांग दी।


सहेली: फिर क्या हुआ?


लड़की: फिर उन्होंने अपनी पैंट भी उतार कर खूँटी पर टांग दी।


सहेली: फिर क्या हुआ?


लड़की: फिर उन्होंने मेरी साड़ी उतारी और खूँटी पर टांग दी।


सहेली: फिर क्या हुआ?


लड़की: फिर मेरा ब्लाउज उतारा और खूँटी पर टांग दिया।


सहेली: फिर क्या हुआ?


लड़की: फिर उन्होंने मेरा पेटीकोट भी उतारा और खूँटी पर टांग दिया।


सहेली: फिर क्या हुआ?


लड़की: फिर उन्होंने मेरी ब्रा भी उतार कर खूँटी पर टांग दी।


सहेली: फिर तो जरूर कुछ मजेदार हुआ होगा?


लड़की: हाँ हुआ था ना बहुत मजा आया।


सहेली: क्या हुआ था?


लड़की: इतने सारे कपड़े लादने की वजह से खूँटी टूट गई और वो सारी रात खूँटी ही ठोकते रह गए।


एक बार पठान का समंदर में सफर कर था कि समंदर में आये एक भयानक तूफ़ान के कारण उसका जहाज़ टूट गया और वो एक टापू पर पहुँच गया। टापू पर पहुँचने पर उसने देखा कि टापू पर एक भेड़ और एक कुत्ता भी थे। तीनो की आपस में गहरी दोस्ती हो गयी।


तीनो अपना ज्यादा समय इकठे ही बिताते। शाम को सूर्यास्त का नज़ारा देखते। एक दिन सूर्यास्त के समय पठान का मन सेक्स करने का हो गया लेकिन उसे वहां कोई ना दिखा तो उसने भेड़ को अपनी बाहों में ले लिया।


यह देख कुत्ता चौकना हो गया। उसने जल्दी से भेड़ को पठान से छुड़वाया और पठान पर भौंकने लगा। पठान समझ गया कि कुत्ता भेड़ को बचाना चाहता है।


फिर उसके बाद वो रोज़ घूमने जाते पर पठान भेड़ से दूर ही रहने लगा।

अचानक एक दिन वहाँ एक और तूफ़ान आया जिसमे एक बेहद खूबसूरत लड़की उस टापू पर पहुँच गयी। जिसे देख पठान बहुत ही खुश हुआ पर तूफ़ान की वजह से लड़की की हालत बहुत खराब थी। पठान ने उसकी खूब सेवा की और उसे दिनों में ही तंदरुस्त कर दिया।


जब लड़की ठीक हुई तो वो पठान से बहुत खुश हुई और उससे बोली, “मैं तुमसे बहुत खुश हूँ, तुमने मुझे नया जीवन दिया है। तुम जो चाहो मैं तुम्हारे लिए वो कर सकती हूँ।”

पठान यह सुन बहुत खुश हुआ और लड़की को अपनी बाहों में लेकर उसके कान में फुसफुसाया, “क्या तुम इस कुत्ते को थोड़ी देर के लिए घुमाने ले जा सकती हो?

Leave a Comment